जहां चाह वहां राह, इस कहावत को सुनीता ने सच कर दिखाया… जानिए कैेसे ?

कई तरह के लोगों से आप मिल चुके होंगे जो किसी ना किसी के लिए प्रेरणा के स्त्रोत हैं। आज हम आपको सुनीता ढिल्लों से मिलवाने जा रहे हैं, जिन्होंने ने काफ़ी परेशानियों का सामना करते हुए ख़ुद की एक अलग पहचान बनाई है। सुनीता की कहानी उनके ज़ुबानी… सुनीता का जन्म जयपुर में हुआ, वह एक मीडिल क्लास परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनके पिता ने काफ़ी मशक्कत की और एयरपोर्ट ऑथोरीटी ऑफ़ इंडिया में बतौर एसिस्टेंट जेनरल मैनेजर के पद पर काम किया। उनके  परिवार की सोच आला नहीं से  होने की वजह से सुनीता अपने ख्वाब पूरा करने में असमर्थ थीं। बचपन से ही सुनीता फ़ैशन इंडस्ट्री में आना चाहती थीं और ग्लैमरस की दुनिया में अपना कैरियर बनाना चाहती थीं। वक्त बदला हालात बदले और सुनीता की शादी हो गई। सुनीता की शादी के बाद अच्छे दिन आए, उनके पति और ससुराल वालों ने उनकी काफ़ी मदद की। सुनीता के हौसले को नई उड़ान देने के साथ सपने को साकार करने के लिए प्रेरित भी किया। सुनीता के उपर ज़िम्मेदारियों बढ़ती गईं उन्हें अपने परिवार का भी ख्याल रखना होता था।

आर्थिक रूप से परिपूर्ण ना होने की वजह से सुनीता को काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ा, लेकिन सुनीता को तो कामयाबी का सेहरा अपने सिर सजाना था। इसलिए सुनीता ने ऑनलाइन मेकअप वीडियो को देख कर सीख हासिल की और  पार्लर में बिना किसी पेमेंट के काम करते हुए तजुर्बा हासिल की। जब सुनीता ने अपने घर पर पार्लर खोला ता उनका बेटा महज़ 3 महीने का था। बहुत ही कम लागत से उन्होंने पार्लर की नींव डाली। पूरानी कुर्सीयां, दीवार की जगह कर्टेन्स का इस्तेमाल । कुल मिला कर ये कह सकते हैं की सिर्फ़ शौक पूरा करने के लिए जैसे-तैसे पार्लर खोल ली थीं। धीरे-धीरे उनके सपने साकार होते नज़र आने लगे, पार्लर  के जरिए सुनीता के सपने को पंख लगे और सुनीता ने कामयाबी की एक बुलंद उड़ान भरी।

सुनीता ने अपने काम से खुद की एक अलग पहचान बनाई, उनके काम की सराहना भी हुई और उन्हें काफ़ी जगह से सर्टीफ़िकेट्स भी दिए गए।  मेकअप आर्टिस्ट, ट्राइक्लोजिस्ट, स्किन थेरेपिस्ट और मॉडलिंग के लिए भी उन्हें सम्मीनित कर सर्टीफिकेट्स दिए गए हैं। सुनीता ग़रीब बच्चों को फ़्री में ग्रुमिंग क्लासेज़, सैलोन कोर्सेज़ कराती हैं, सुनीता का मानना है कि पैसे से बिस्तर तो ख़रीद सकते हैं पर नींद नहीं, इसी तर्ज़ पर  उनका कहना है कि पैसे से कम लोगों की और अच्छी सोच से आप कई लोगों की ज़िंदगी सवार सकते हैं।

Latest articles

Related articles

29 Comments

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here