कन्हैय्या पर हमला, छात्रों की आवाज़ दबा रही है केंद्र सरकार… पढ़िए पूरा मामला

मुर्शीद ख़ान। इंदौर के एक कार्यक्रम में शामिल होने आए जेएनयू के कन्हैया कुमार को इंदौर में कड़ा विरोध झेलना पड़ा। शहीद भगत सिंह के नाम पर बने एक संगठन के कार्यक्रम में कन्हैया के पहुंचते ही बवाल मच गया। हिंदू महासभा और भारत स्वाभिमान के सैड़कों कार्यकर्ता हाथ में तिरंगा लेकर कन्हैया का मुंह काला करने पहुंच गए। मौके पर मौजूद पुलिस ने इन पर लाठीचार्ज कर दिया, जिससे सड़क पर गदर मच गया। विवाद देर रात तक चलता रहा। कन्हैया के कार्यक्रम की घोषणा मिलते ही शहर के कुछ संगठनों ने उसका विरोध करते हुए उसका मुंह काला करने की घोषणा की थी। इनका कहना था जेएनयू में देश विरोधी कार्यक्रम आयोजित कर भारत के खिलाफ और संसद पर हमला करने वाले आतंकियों का समर्थन करने वाले किसी व्यक्ति को शहर में मंच देना गलत है। इन संगठनों ने कन्हैया को काले झंडे दिखाने और उसका मुंह काला करने की घोषणा की थी। आयोजन स्थल पर कन्हैया के पहुंचने के पहले ही बड़ी संख्या में कार्यकर्ता तिरंगा झंडा लेकर पहुंच गए और नारेबाजी करने लगे।

कार्यक्रम स्थल पर बड़ी संख्या में पुलिस फ़ोर्स तैनात था, विरोध कर रहे कार्यकर्ताओं को पुलिस ने आडिटोरियम से बाहर धकेलना शुरू कर दिया। कार्यकर्ताओं के विरोध करने पर पुलिस ने उन पर लाठियां भांजी और कार्यक्रम स्थल से बाहर धकेल दिया। लाठीचार्ज के चलते पूरे क्षेत्र में भगदड़ मच गई, कार्यकर्ताओं ने काफी देर तक पुलिस की कार्रवाई का विरोध किया लेकिन पुलिस के आगे उनकी एक ना चली आखिरकार विरोध कर रहे सभी लोग घटनास्थल से रवाना हो गए।

हिंदू महासभा ने किया विरोध: भाजपा की सरकार के राज में देशद्रोहियों को खुली छूट का हिंदू महासभा ने बुधवार को विरोध किया। विरोध करते हुए पुलिस लाठीचार्ज में महासभा के कार्यकर्ता घायल भी हो गए। हिंदू महासभा के संगठन मंत्री दिनेश श्रीवास्तव ने बताया देशद्रोहियों को देश के खिलाफ बोलने की खुली छूट देने का हिंदू महासभा विरोध करती है। इसमें अंकित भनोपिया, राहुल गौड़ सहित प्रमुख कार्यकर्ता शामिल थे।

जंग का एलान किया: शहीद भगतसिंह दीवाने ब्रिगेड द्वारा आनंदमोहन माथुर सभागृह में आयोजित कार्यक्रम में कन्हैया ने कहा- हम इंदौर की धरती से जंग का एेलान करते हैं। अगला कार्यक्रम जल्द ही दशहरा मैदान में होगा। उन्होंने सवाल उठाए कि आखिर रोजगार कहां हैं, गाय माता के नाम पर मां के कलेजे के टुकड़ों को मारा जा रहा है। क्या वो मां नहीं है।

Latest articles

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here