कामयाब बनने के लिए शॉर्टकट की नहीं मेहनत की ज़रूरत होती है- श्रेया

इंज़माम वहीदी, कोलकाता। मेहनत कभी बेकार नहीं जाती है। पश्चिम बंगाल, कोलकाता की रहने वाली श्रेया भट्टाचार्जी ने इस कहावत को सच कर के दिखाया है। आइए जानते हैं श्रेया की कामयाबी की कहानी उनकी ज़ुबानी।

1. आप कहां से ताल्लुक रखती हैं ?

मैं बंगाल के एक मध्यम वर्ग के परिवार से ताल्लुक रखती हूं। मेरे परिवार में माता-पिता, मैं और मेरा छोटा भाई हैं।

2. आपने पढ़ाई कहां तक की है ?

मैंने ग्रेड्यूशन किया है और साथ ही कथा नृत्य में 5 साल की संगीत बिवाकर की डिग्री ली है।

3. आपने इस फ़ील्ड को ही क्यों चुना ?

मैं टैलेंट से भरे परिवार से आती हूं। मेरे माता-पिता बहुत अच्छे सिंगर हैं। बचपन से मैंने अपने पापा को स्टेज पर परफ़ॉर्म करते देखा है। बड़ी हुई तो पत्रकारिता में ट्रेनी के तौर पर काम किया। उसके बाद काफ़ी अदाकारों के काम करने के तरीके को देखी। मुझे लगा की मैं भी अपना कैरियर ग्लैम वर्ल्ड में बना सकती हूं। चूंकि मेरी कुछ जाती परेशानियां थी जिस वजह से मेरा वजन बढ़ गया था। कुछ लोगों ने कहा था कि मैं ये नहीं कर सकती तभी मैंने ठान लिया था कि उन सब लोगों को जवाब दूंगी, उसके बाद मैंने 10 किलो वजन कम किया और इंडस्ट्री में कदम रखा। यह मेरा सपना था इस फ़ील्ड में मुझे अपने सपने को साकार करना था इसलिए मैंने कई सारी ब्यूटी पैजेंट्स में भाग लिया। शुरूआती दौर में मैं ज्यादा अच्छा नहीं कर पाई लेकिन धीरे-धीरे मैंने कामयाबी हासिल की। इसी कड़ी में मुझे मिस इंडिया ईस्ट में तीसरा स्थान मिला।

4. आप किससे प्रेरित हैं?

मैं सबसे ज़्यादा सुष्मिता सैन से प्रेरित हूं, क्योंकि ग्लेमर वर्ल्ड में होने के बावजूद उनके अंदर सादगी है। इतनी बड़ी फ़ेम होने के बावजूद उनमें शालीनता है वह ज़मीन से जुड़ी हुई हैं। मैंने कभी भी उनको शो-ऑफ़ करते हुए नहीं देखा। मुझे उनसे प्रेरण मिली की आप फ़ेम होने के बावजूद भी ज़मीन से जुड़ी रह सकती हैं।

5. आपके परिवार वालों ने आपका कितना साथ दिया ?

मेरे परिवार वालों ने पढ़ाई से लेकर कैरियर चुनने तक मेरे हर फ़ैसले में मेरा साथ दिया। मुझे कभी मेरे भाई से कम नहीं समझा गया। मुझपे कभी भी कोई निर्णय थोपा नहीं गया। मेरे जिंदगी के हर फैसले मुझसे पूछ कर लिए गए। मैं बहुत ही खुशनसीब हूं की मुझे ऐसा परिवार मिला है जिसका हर क़दम पर मुझे साथ मिलता है। इनका यही साथ मुझे हौसला देता है कि मैं जो कर रही हूं उससे कही और ज्यादा अच्छा कर सकती हूं। मेरा परिवार ही मेरी ताक़त है।

6. इस इंडस्ट्री को आप कैसा मानती हैं ?

यह इंडस्ड्री काफी अच्छी है। मेहनत करने वालों के लिए बहुत मौक़े भी होते हैं। बात प्रोफ़ेशन से जुड़ी हो या आम ज़िंदगी से, ग्लैम वर्ल्ड से जुड़ने के बाद आप में सकारात्मक बदलाव आते हैं। बात कॉस्टली मेक-अप या ड्रेसेज़ की नहीं होती, आप यहां सीखते हो की किस तरह से आप सादगी में भी ख़ुद को कैरी कर सकते हो। दूसरे लफ़्ज़ों में कहें तो जीने सलीके में काफ़ी फ़र्क आता है।

7. भविष्य में आगे और क्या करने का ईरादा है ?

भविष्य में और अच्छे मौक़े की तलाश में हूं। ऐसे तो काफ़ी ऑफर आते रहते हैं लेकिन मैं अच्छे मॉडलिँग और मूवी प्रोजेक्ट की तलाश में हूं।

8. युवा इसमें अपना भविष्य तलाश सकते हैं या नहीं ?

इस इंडस्ट्री में काफ़ी स्कोप है जो इंसान मेहनत करता है वो कभी खाली नहीं बैठ सकता है। हर जगह की तरह यहां भी तगड़ा कॉम्पेटीशन है। इसलिए इस इंडस्ट्री में कैरियर बनाने के लिए काफ़ी मेहनत, फोकस और आत्मनिर्भर होने की ज़रूरत है। क्योंकि आपकी छोटी सी छोटी कमी भी आपके हाथों से बड़े मौके गंवा देगी।

9.क्या-क्या मुश्किलों का सामना करना पड़ता है ?

पहली मुश्किल वहां होती है जब आप नए होते हो। आपको कोई नहीं जानता है। आपके टैलेंट की उस वक़्त क़द्र नहीं होती है। हर एक्टर्स को शुरूआती दौर में इस हालात से गुज़रना पड़ता है। दूसरी मुश्किल ये होती है की लोग पैसे लेकर काम दिलवाने की बात करते हैं। मैं कहना चाहूंगी की पैसे देकर नहीं आपके टैलेंट पर आप कामयाब बन सकते हो, जो लोग पैसे मांगे उन लोगों से दूर रहे क्योंकि वह काम के नाम पर आप से ठगी करते हैं।

10. युवाओं को क्या संदेश देना चाहती हैं ?

मैं सभी से यह कहना चाहुंगी की कामयाबी के लिए शॉर्टकट नहीं होता है आपका टैलेंट ही आपको आगे बढ़ाता है। आप जितनी जल्दी ख़ुद को इंडस्ट्री के मुताबिक बना लेंगे निश्चित तौर पर आप आने वाले दिनों में एक कामयाब और नामचीन हस्ती होंगे।

Latest articles

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here