इंडस्ट्री में क़दम रखते ही बन गई मिस फ़ेस ऑफ़ यूनिवर्स इंडिया, पढ़िए जीवनी

मेरा नाम डॉ.अंकना गर्ग है। मैहिमाचल के बिलासपुर ज़िले के अमरपुर गांव की रहने वाली हूं। पेशे से मैं एक न्यूरो फ़िजीयो थेरेपिस्ट हूं। हम 5 बहने हैं जिनमें मैं सबसे छोटी हूं। बाकी सभी बहनों की शादी हो चुकी है। 21 साल की उम्र में मेरे पापा का साया मेरे सिर से उठ गया। पापा के जाने के बाद मेरे बड़े मामा और मेरी बहनों ने ही मेरी आगे की पढ़ाई जारी रखवाई। मेरे पापा PWD में काम करते थे। गुज़रने से 15 दिन पहले हि वो अपने पोस्ट से रिटायर हो चुके थे। हमारे जीवन का संघर्ष बढ़ गया था। मुश्किल से परिवारिक पेंशन से गुज़र बसर होता था। मेरी बहनों ने ख़ुद पढ़ कर नौकरी ढ़ूढ़ी और मेरे मामा जी ने मिलकर मेरी पढ़ाई मुकम्मल करवाई। मैं बचपन से पढ़ने में तेज़ थी पापा की आमदनी ज़्यादा नहीं थी इसलिए हम बहनें स्कॉलरशिप लेकर पढ़ते रहीं।


मैं घर में सबसे छोटी थी लेकिन हमेशा चीज़ों को परखती थी और पापा को गर्व महसूस कराने की कोशिश करती थी। गांव में लड़कियों को ज़्यादा अहमियत नहीं दिया जाता था, लेकिन मेरे पापा ने लोगों की एक न सुनी और हम बहनों को पढ़ाया। ख़ुद को तंग हालत में रहे और हम बहनों की हर ख़्वाहिश पूरी की। तभी मैंने ठान लिया था की बेटी होकर भी मैं एक बेटे की तरह पापा का नाम रौशन करूंगी। और उन्हें यह साबित कर दूंगी की लड़कियां भी लड़कों की तरह नाम कमा सकती हैं। मैंने यह ठान लिया था कि पापा को बंगला, गाड़ी सब कुछ हर ऐश ओ आराम देना है।


मेरे पापा मुझे डॉक्टर बनते देखना चाहते थे। अब मैं डॉक्टर बन गई हूं। मॉडलिंग और एक्टिंग लाइन में भी मुझे रुचि थी। शुरू से ही लोग मेरे वेश भूषा को देख कर कहते थे कि मॉडलिंग में कोशिश करनी चाहिए मैंने पिछले साल ही इस इंडस्ट्री में क़दम रखा औऱ मिस फ़ेस ऑफ़ यूनिवर्स इंडिया का ख़िताब अपने नाम किया। ख़िताब जीतने के बाद मुझे कई जगह से ऑफर्स मिलने लगे। मैं एक शो में जज भी बनी। लॉकडाउन के वक़्त भी मैंने ऑनलाइन कॉम्पेटिशन में भाग लिया और अवार्ड भी जीती। मैं मिस्टर एंड मिसेज़ नॉर्थ इंडिया 2020 की जज भी बनी। आने वाले वक़्त में और भी कई किरदार जैसे कि वीडियो सॉंन्ग, टीवी सीरियल, वेब सीरीज़ और मूवी में नज़र आउंगी।

Latest articles

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here