हिमाचल की इस लड़की को कैसे मिला वॉयस ऑफ वैली का नाम.. पढ़िए पूरी ख़बर

ज़ेबा वहीदी, शिमला: आपने कई कलाकारों के बारे में सुना और उनके बारे में पढ़ा होगा । उसी तरह सेआज हम आपको हिमाचल प्रदेश की युवा गायिका खुशी ठाकुर से मिलवाने जा रहे हैं । ख़ुशी ठाकुर हिमाचल प्रदेश के ज़िला सोलन से ताल्लुक रखती हैं। खुशी ठाकुर को बचपन से ही गायन, नृत्य और अभिनय का शौक रहा है। ख़ुशी ने अपने शौक को पेशा बनाकर आज अपनी एक अलग पहचान बना ली है। आपको बता दें कि मुम्बई में ख़ुशी ठाकुर को इंडिया मोस्ट ट्रस्टेड ब्रांड 2016 के बैनर तले बॉलीवुड प्लेबैक सिंगर के खिताब से नवाज़ा भी जा चुका है। कई नामी हस्तियों के बीच हिमाचल की युवा गायिका को अवार्ड मिलना हिमाचल प्रदेश के लिए भी गर्व की बात है।

अब आपको बताते हैं खुशी के सफ़रा का इतिहास । बॉलीवुड फिल्म मुजफ्फरनगर 2013 में ख़ुशी ने मशहूर गायक मोहित चौहान के साथ गाने का मौका मिला है। इस फिल्म में मोहित चौहान व खुशी ठाकुर ने ‘देखते ही’ गीत गाया है। यह ख़ुशी का दूसरा गाना था । एलबम ‘जहां मैं जाती हूं वहीं चले आते हो’ में उन्हें पहली बार ब्रेक मिला था। इसके बाद उनके 2 अन्य गीत रिलीज हुए जिनमें भरोसा औऱ बैंड बजानी है, गीत शामिल हैं। बॉलीवुड में एंट्री के साथ ही खुशी ने अपनी अलग पहचान बना ली। बॉलीवुड फिल्म लव के फंडे में खुशी ने ‘अनमोल मसका’ गीत गाया जिसमें काफ़ी लोगों ने खुशी ठाकुर की आवाज सराहा और ख़ुशी प्लेबैक सिंगर ख़िताब की हक़दार बनीं।

ख़ुशी टाकुर को सैफ़ई महोत्सव 2016 में प्रस्तुति देने का मौका मिला था जो कि खुशी ठाकुर के लिए एक बड़ी उपलब्धि थी क्योंकि इस महोत्सव में करीना कपूर, सैफ अली खान, रणवीर सिंह, सोनाक्षी सिन्हा, सोनम कपूर, अर्जुन कपूर व परिनीति चोपड़ा आदि नामी कलाकारों के साथ प्रस्तुति देने मौका मिला था। ख़ुशी ने शिमला में अपनी पढ़ाई मुकम्मल की और मुम्बई में कई सालों की कड़ी मशक्कत के बाद कामयाब हुई। वहीं फिल्मी दुनिया में लगातार आगे बढ़ रही खुशी ठाकुर को मुंबई में उनके चाहने वालों ने वॉयस ऑफ वैली का नाम दे रखा है। उन्हें खुशी ठाकुर वॉयस ऑफ वैली के नाम से बुलाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *