शिगंणापुर मंदिर में शनिदेव की है ऐसी प्रतिमा जो की बिना गुंबद के भी है स्थापित

नई दिल्ली कर्म फल दाता शनि देव के समपूर्ण भारत में अनेकों मंदिर हैं लेकिन जो मंदिर सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हैं वो महाराष्ट्र के अहजमदनगर जिले में स्थित शिंगणापुर मंदिर हैं। जिसे पूरे विश्व में  माना जाता हैं। लेकिन बहुत कम ऐसे लोग है जो शनिदेव के इस मंदिर के बारे में सपूर्ण बाते जानत हो । इसलिए हम आपको इस शनिदेव के इस मंदिर के बारे में खास बात बताने जा रहे हैं।

  •  शनिदेव की  प्रतिमा बगैर किसी छत्र या गुंबद के खुले आसमान के नीचे एक संगमरमर के चबूतरे पर स्थापित हैं।
  • शनिदेव की प्रतिमा  पाँच फीट नौ इंच ऊँची व लगभग एक फीट छह इंच चौड़ी है ।
  • शिंगणापुर मंदिर के दर्शन सिर्फ वहां रह रहे लोगों ही नहीं बल्कि देश – विदेश से भी लोग करने आते हैं।
  • शनि प्रतिमा के समीप जाने के लिए पुरुषों का स्नान कर पीताम्बर धोती धारण करना अत्यावशक होता हैं।
  • शनि मंदिर का एक विशाल प्रांगण है जहाँ दर्शन के लिए भक्तों की कतारें लगती हैं।  जहां पर सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं बल्कि छोटे – छोटे 4 से 5 साल तक के बच्चे पूजा करने के लिए तैयारी करते हैं।
  • शिंगणापुर के अधिकांश घरों में खिड़की, दरवाजे और तिजौरी नहीं है। दरवाजों की जगह यदि लगे हैं तो केवल पर्दे।
  • शिंगणापुर के घरों में चोरी होने का डर भी नहीं रहता क्योंकि ये माना जाता हैं कि जो भी चोरी करता है उसे शनि महाराज उसकी सजा स्वयं दे देते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *