मुग़ल गार्डेन के इस दो ख़ास फूल के बारे में आप जानते हैं क्या ?

नई दिल्ली। बसंती बयार के बीच दिलकश नजारों और रंगबिरंगी छटाओं के साथ राष्ट्रपति भवन का मुगल गार्डन जनता के लिए फिर से तैयार है। इस अनोखे गार्डन में घूमकर आप खुद को तरोताजा कर सकते हैं। इस बार गार्डन में आपको गुलाबों की 2 खास किस्में भी दिखेंगी जो कि यहां का नया आकर्षण होंगे। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और उनकी दिवंगत पत्नी के नाम पर गुलाबों की ये 2 किस्में तैयार की गई हैं। पीले रंग की किस्म का नाम रखा गया है प्रेजिडेंट प्रणब मुखर्जी और लाल किस्म का शुव्रा मुखर्जी।

हर्बल गार्डंस: यहां हैं अश्वगंधा, ब्राह्मी, लेमन-ग्रास, 5 तरह की मिंट, खस, ईसबगोल, खुशबूदार ऑइल वाला जिरेनियम, हडजोड़ और स्टीविया जैसे औषधीय और घरेलू इस्तेमाल के पेड़-पौधे। इसके बाईं तरफ हैं म्यूजिकल फव्वारा गार्डन। संगीत के साथ चलते फव्वारे सैर के उत्साह को दूना कर देंगे।

मुख्य गार्डन: विशाल स्क्वेयर गार्डन के इस बेहद खूबसूरत हिस्से से ही राष्ट्रपति अपनी सैर की शुरुआत करते हैं। फूलदार डेकोरेटिव पेड़-पौधे और फव्वारे तो दिखाई देंगे ही यहां, करीने से तैयार घास और फूलों के कार्पेट भी आकर्षित करेंगे। पास ही है रंग-बिरंगी वरायटीज के साथ निराली छटा बिखेरता-इठलाता खूबसूरत ट्यूलिप। राष्ट्रपति की डिप्टी प्रेस सचिव शमीमा सिद्दीकी बताती हैं कि यहां 14 हजार ट्यूलिप हैं जो सिर्फ जनवरी से मार्च तक ही खिलते हैं इसलिए यहां के मौसम में इन्हें देखना अनोखा अनुभव होगा। यहां खुशबू बिखेरने वाले

रोज गार्डन: महीनों से तैयारी में लगे राष्ट्रपति भवन गार्डंस के ओएसडी यू. डी. कुकरेती ने बताया कि क्वीन एलिजाबेथ, मदर टेरेसा, एंजलिक, ब्लू मून, ब्लैक रोज या ऑक्लहोमा, ब्लैक बकारा और ग्रीन रोज जैसी गुलाब की 135 किस्में हैं इस बगिया में।

सर्कुलर गार्डन: बेहद खूबसूरत नजारे वाले इस गार्डन में बीचोंबीच पानी का सुंदर ताल है। चारों ओर महकदार बेलें और कमनीयता बिखेरते फूल हैं। लंबी सांस खींचने पर यहां मिली-जुली खुशबू दिलो-दिमाग में बस जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *