FaceApp के ज़रिए बुढ़ापे वाली तस्वीर कर रहे हैं शेयर हो जाइए सावधान।

नई दिल्ली। Old Age का फिल्टर लगाकर लोग फोटो शेयर कर रहे हैं, जिसमें वह बूढ़े दिखाई दे रहे हैं. लेकिन इस सब के बीच ऐप के टर्म्स एंड कंडीशंस ने प्राइवेसी को लेकर बड़ी चिंता खड़ी कर दी है।
FaceApp जो कि 2017 में लॉन्च हुआ था, एक बार फिर अपने ‘the old age’ फिल्टर को लेकर वायरल हो रहा है. ट्विटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर लोग अपनी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं. लोग Old Age का फिल्टर लगाकर फोटो शेयर कर रहे हैं, जिसमें वह बूढ़े दिखाई दे रहे हैं. लेकिन इस सब के बीच ऐप के टर्म्स एंड कंडीशंस ने प्राइवेसी को लेकर बड़ी चिंता खड़ी कर दी है.
इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, कंपनी ने भी इस मामले को टेकक्रंच के समक्ष उठाया है. रूस बेस्ड फेसऐप ने कहा है कि वो सिर्फ बेहतर परफॉर्मेंस के लिए क्लाउड में फोटो प्रोसेसिंग करता है, लेकिन वो अन्य तस्वीरें फोन से क्लाउड में ट्रांसफर नहीं करता. ट्विटर पर बहुत से यूजर्स ने ऐप के टर्म्स एंड कंडीशन को लेकर सवाल उठाए हैं. इसमें एक अहम मामला ये सामने आ रहा है कि अगर आप ऐप यूज कर रहे हैं तो आप उसे (फेसऐप) इस बात का लाइसेंस दे रहे हैं कि वो आपकी एडिटेड फोटो कहीं भी यूज कर सकता है, यहां तक की कमर्शियल काम के लिए भी.
टर्म्स एंड कंडिशंस में पर्पिचुअल, इरवोकेबल, रॉयलटी फ्री और वर्ल्डवाइड जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया है. इसका मतलब ये है कि अगर आप एक बार अपनी तस्वीर एडिट करने के लिए इस ऐप का इस्तेमाल करते हैं, तो कंपनी इस तस्वीर का दुनिया में कहीं भी अपने प्रमोशन के लिए इस्तेमाल कर सकती है. PhoneArena पर भी एक लेख छपा है, जिसमें कहा गया है कि ऐप आपके एडिटेड फोटोज मॉस्को में billboard (प्रचार) पर भी यूज कर सकती है और आप इसे लेकर कुछ भी नहीं कर सकते, क्योंकि ऐप के टर्म्स एंड कंडिशंस ही कुछ ऐसे हैं.
फेसऐप के स्टेटमेंट में एक बात ये भी कही गई है कि हम भले ही आपकी फोटो क्लाउड में स्टोर करते हों. लेकिन ऐसा करने की मुख्य वजह सिर्फ परफॉर्मेंस और ट्रैफिक है. हम ये बात सुनिश्चित करने की कोशिश करते हैं कि यूजर बार-बार अपनी एडिट फोटो अपलोड न करे. ज्यादातर तस्वीरें अपलोड की तारीख के 48 घंटे के भीतर क्लाउड से डिलीट कर दी जाती है. लेकिन कंपनी की प्राइवेसी पॉलिसी में 48 घंटों में क्लाउड सर्वर से फोटो डिलीट करने की बात का कहीं जिक्र नहीं है.
ये ऐप फोटो एडिट करने के लिए न्युरल नेटवर्क का इस्तेमाल करता है, जो एक तरह का आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) है. ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर लोग खूब पोस्ट कर रहे हैं. यहां तक की क्रिकेटर्स, सेलिब्रेटीज़ भी इस ऐप का इस्तेमाल कर फोटो शेयर कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *