कौमी एकता और शिक्षा के महत्व को समझाने के कार्यक्रम का आयोजन

मुर्शीद खान(पटना ): 01/04/2017 को संध्या 6:30 बजे मदरसा जामिया अब्दुल बाड़ी,धनौत पटना के प्रांगन मे एक सभा का आयोजन किया गया। यह इदारा व मस्जिद,धनौत 1947 से गैर आबाद थी बड़ी मेहनत व जद्दो-जेहद के बाद दोबारा आबाद हुई। इस मस्जिद को दोबारा आबाद करने की पहल सुन्नी वक्फ बोर्ड,सिवान के जिला अध्यक्ष जनाब मंसूर आलम साहब ने पहल की। मस्जिद के साथ-साथ दीनी तालीम को तबज्जो देने के लिए मदरसा का भी तामीर किया गया। वही मंसूर आलम साहब ने कहा की यह इदारा किसी खास कौम के लिये नही है बल्कि हिंदुस्तान मे रह रहे हर शहरी के लिये है। और गंगा-जमुनी तहजीब को बचाना हर हिंदुस्तानी का फर्ज है। इस मस्जिद व मदरसा फिर से आबाद करने मे गैर-इस्लामी बेरादरी के लोग तन-मन-धन से खड़े हुए और साथ मिलकर इस काम को अंजाम दिया।और वही साथ रहना यह दिखता है की इस देश मे गंगा-जमुना तहजीब सदा अमर रहेगी और इस ट्रस्ट के द्वारा जो भी काम होगा वह सब लोगो की भलाई के लिये होगा और कौमी एकता उदाहरण बनकर पुरे विश्व के सामने उभरेगा।

वही मौके पर जाने माने तालीम दोस्त व कटिहार मेडिकल कॉलेज के बानी जनाब अहमद अशफाक करीम साहब जो इस इदारे के सरपरस्त(रहबर)भी है उन्होंने शिक्षा पर बल देते हुए कहा की हम सबो पर यह दायित्व है की हम अपने बच्चो को उच्च से उच्च शिक्षा दे ताकि वह देश व समाज की भलाई करने मे सकक्षम हो सके।उन्होंने यहाँ तक कहा की कोई भी धर्मग्रन्थ यह नही कहता की दुनियाबी तालीम से दूर रहो बल्कि दुनियाबी तालीम खुद हर धर्मग्रंथ का निचोर है।

और मौके पर दानिशमंद लोगो ने मौजूद होकर इस कार्यक्रम को सफल बनाने मे अपना योगदान दिया। साथ-साथ पहली किरण डॉट कॉम के स्टेट हेड इरफ़ान ख़ान ने भी शिरकत की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *